राष्ट्रपति का संबोधन

READ IN ENGLISH

प्रस्तावना

  • राष्ट्रपति का भाषण अनिवार्य रूप से सरकार की नीतिगत प्राथमिकताओं और आगामी वर्ष की योजनाओं पर प्रकाश डालता है। यह मंत्रिमंडल द्वारा तैयार किया जाता है, और सरकार के एजेंडे और दिशा का एक व्यापक ढांचा प्रदान करता है।
  • राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद जी का 20 जून 2019 का संबोधन नरेंद्र मोदी सरकार 2.0 के आगामी कार्यकाल का एक अवलोकन था।
  • उन्होंने मतदाताओं को उनके अभूतपूर्व योगदान के लिए बधाई दी, विश्व के सबसे बड़े चुनावों को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने के लिए चुनाव आयोग की तारीफ की और हर आयु के, गांव और शहर के, हर प्रोफेशन के लोगो की दोनों सदनों मे सदस्यता होने पर प्रसन्नता व्यक्त की।
  • उन्होने कहा कीइस चुनाव में देश की जनता ने सरकार के पहले कार्यकाल के मूल्यांकन के बाद, दूसरी बार और भी मजबूत समर्थन दिया है। ऐसा करके देशवासियों ने वर्ष 2014 से चल रही विकास यात्रा को अबाधित, और तेज गति से आगे बढ़ाने का जनादेश दिया है।
  • देश को निराशा और अस्थिरता के माहौल से देश को बाहर निकालने के लिए, देशवासियों ने तीन दशकों के बाद पूर्ण बहुमत की सरकार चुनी थी। उन्होने कहा, मेरी सरकार ने‘सबका साथ – सबका विकास के मंत्र पर चलते हुए, बिना भेदभाव के काम करते हुए, एक नए भारत के निर्माण की दिशा में आगे बढ़ना शुरू किया।
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद के संयुक्त सत्र में अपने अभिभाषण में केंद्र सरकार के अजेंडे को पेश करते हुए सभी दलों से तीन तलाक और हलाला जैसी कुप्रथाओं को खत्म करने के लिए सहयोग मांगा है।
  • राष्ट्रपति ने मोदी सरकार 2.0 को गरीबों, किसानों और जवानों के लिए समर्पित बताते हुए कहा कि आजादी के 75 वर्ष पूरे होने तक हम विकास के नए मानकों को हासिल करेंगे। उन्होंने कहा, ‘देश के लोगों को लंबे समय तक मूलभूत सुविधाओं के लिए इंतजार करना पड़ा, लेकिन अब स्थितियां बदल रही हैं। सरकार के दबाव, प्रभाव या अभाव की स्थिति से जनता को मुक्त करना है।’ दुनिया की तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में देश को शामिल करने का लक्ष्य भी उन्होंने देश का सामने रखा।
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘यह नया भारत गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर के उस आदर्श भारत की ओर बढ़ेगा, जहां लोगों का चित्त भयमुक्त हो और आत्मा सम्मान से युक्त। नए भारत के इस पथ पर सभी व्यवस्थाएं पारदर्शी होंगी और ईमानदार लोगों की प्रतिष्ठा और बढ़ेगी। इन्हीं संकल्पों के परिप्रेक्ष्य में ही 21 दिनों में ही मेरी सरकार ने किसान और जवान के लिए हितकारी फैसले लिए हैं।’

सरकार की आगामी वर्षों की योजनाएँ

किसानों और दुकानदारों पर फोकस

राष्ट्रपति ने कहा कि मेरी सरकार ने किसान सम्मान योजना का दायरा सभी किसानों तक बढ़ाया गया है। किसानों से जुड़ी पेंशन योजना को भी स्वीकृति दी जा चुकी है। पहली बार किसी सरकार ने छोटे दुकानदारों की आर्थिक सुरक्षा की ओर भी ध्यान दिया है। इसके लिए अलग पेंशन योजना को मंजूरी दे दी है। इसका लाभ देश के 3 करोड़ छोटे दुकानदारों को मिलेगा।

हर घर तक पानी पर होगा मोदी 2.0 सरकार का फोकस

रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘जल संकट बढ़ती हुई चुनौतियों में से एक है। जलस्रोतों के लुप्त होने से गरीबों के लिए जल संकट बढ़ता गया। ग्लोबल वार्मिंग के चलते आने वाले समय में यह संकट और बढ़ने की आशंका है। हमें अपने बच्चों के लिए पानी बचाना ही होगा। इसके लिए जलशक्ति मंत्रालय का गठन दूरगामी कदम है। इसके जरिए जल संरक्षण के उपायों को और अधिक प्रभावी बनाया जाएगा। ग्राम सभाओं और सरपंचों के जरिए यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि पीने के पानी की कमी दूर की जा सके। हर घर तक स्वच्छ जल पहुंच सके।’

खेती में होगा 25 लाख करोड़ रुपये का निवेश

मोदी सरकार के किसानों पर फोकस का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि कृषि क्षेत्र की उत्पादकता को बढ़ाने के लिए 25 लाख करोड़ का और निवेश किया जाएगा। 2022 तक किसानों की आय दोगुनी हो सके, इसके लिए बीते 5 वर्षों में अनेक कदम उठाए गए हैं। सिंचाई परियोजना, सॉइल हेल्थ कार्ड, यूरिया नीम कोटिंग और एमएसपी सरीखे कई अहम फैसले लिए हैं।

दीनदयाल उपाध्याय के अंत्योदय के तहत गरीबों का विकास

राष्ट्रपति ने संघ परिवार और बीजेपी के विचारक दीनदयाल उपाध्याय के अंत्योदय के तहत गरीबों के विकास की बात कही। उन्होंने कहा कि अंत्योदय के विचार के तहत गरीबों को आवास, स्वास्थ्य और शिक्षा की व्यवस्था की जा रही है। जनधन योजना के जरिए दुनिया में सबसे बड़ा आर्थिक समावेशन किया गया। अब देश भर में बैकिंग सेवाओं को आसान बनाने के लिए प्रयास किया जा रहा है। देश के 112 पिछड़े जिलों के विकास के लिए काम किया जा रहा है।

तीन तलाक और निकाह हलाला के खिलाफ मांगा सहयोग

राष्ट्रपति ने कहा कि इस बार सदन में सबसे ज्यादा महिलाएं चुनकर आई हैं। बहन-बेटियों को सम्मानजनक जीवन देना और उन्हें देश के विकास में हिस्सेदार बनाना हमारा लक्ष्य है। उन्होंने मोदी सरकार के तीन तलाक बिल और निकाह हलाला पर अजेंडे को स्पष्ट करते हुए विपक्षी दलों से सहयोग की भी मांग की।राष्ट्रपति ने कहा, ‘निकाह हलाला और तीन तलाक जैसी कुप्रथाओं का उन्मूलन जरूरी है। बहन-बेटियों के जीवन को बेहतर बनाने के प्रयास में सहयोग दें।’

गंगा के बाद कावेरी, पेरियार, यमुना भी होंगी साफ

राष्ट्रपति ने कहा कि गंगा की धारा को अवरिल बनाने के साथ ही हमारी सरकार कावेरी, पेरियार, गोदावरी और यमुना जैसी नदियों की सफाई पर भी ध्यान देगी। उन्होंने कहा कि नमामि गंगे योजना के तहत नालों के गंगा में गिरने पर रोक और अधिक प्रभावी किया जाएगा।

कालेधन के खिलाफ बढ़ेगा ऐक्शन

राष्ट्रपति ने आने वाले दिनों में ब्लैकमनी के खिलाफ अभियान को तेज करने की बात कही। उन्होंने कहा कि अब तक 3.50 फर्जी कंपनियों का रजिस्ट्रेशन रद्द हुआ। 4 लाख से ज्यादा निदेशकों पर ऐक्शन हुआ। 146 देशों से कालेधन को लेकर जानकारी मिल रही है। विदेशों में कालाधन इकट्ठा करने वालों की हमें जानकारी मिल रही है। रियल एस्टेट सेक्टर में अब रेरा का प्रभाव दिख रहा है। इन्सॉल्वेंसी ऐंड बैंकरप्सी कोड के तहत बैंकों के फंसे साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये निकले हैं। भगोड़ों के खिलाफ कानून बना है।

ईज ऑफ डूइंग बिजनस में टॉप 50 में होंगे शामिल

राष्ट्रपति ने कारोबार के क्षेत्र में भारत में स्थितियों को आसान बनाने की बात कही। उन्होंने कहा कि हम इकॉनमी में बड़े स्तर पर सुधार के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनस में शीर्ष 50 देशों में आना हमारा लक्ष्य है। टैक्स व्यवस्था में सुधार के साथ सरलीकरण पर भी जोर दिया जा रहा है। 5 लाख तक की आय को करमुक्त करना ऐसा ही फैसला है। जीएसटी को और सरल बनाने के प्रयास भी जारी रहेंगे। छोटे व्यापारियों को 10 लाख का दुर्घटना बीमा भी मिलेगा।’

राष्ट्रपति बोले, पुलवामा के बाद हमने दिखाई ताकत

पुलवामा आतंकी हमले के बाद कार्रवाई से हमने अपनी क्षमता प्रदर्शित की है। घुसपैठ से जूझ रहे इलाकों में नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस के जरिए इस समस्या से निपटा जाएगा। घुसपैठियों की पहचान की जा रही है। इसके अलावा आस्था के आधार पर पीड़ितों की सुरक्षा पर भी ध्यान दिया जा रहा है। जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को सुरक्षित माहौल देने के लिए सरकार निष्ठा के साथ काम कर रही है। आतंकी मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित कराना बड़ी कामयाबी है।

June 22, 2019

0 responses on "राष्ट्रपति का संबोधन"

Leave a Message

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Designed and developed by Bitibe
X